Domain Authority क्या है? DA की पूरी जानकारी हिन्दी में

क्या आप जानना चाहते है के What is Domain Authority in Hindi (Domain Authority क्या है), तो ये post आप के लिए है. Internet पर हर दिन हजारो नए नए websites बनते हैं, और ये सभी websites को बनाने वाले दिन रात कोशिश करते रहते हैं की कैसे उनका website internet के दुनिया में लोगों के सामने आये और अपनी अलग पेहचान बनाये. बहुत से तरीके अपना कर bloggers धीरे धीरे आगे बढ़ते रहते हैं, उनका बस एक ही लक्ष्य होता है की अपने website को Google के page में सबसे ऊपर अपनी जगह बनाएं. ऐसे तो internet पर बहुत से websites मौजूद हैं लेकिन उनमे से कुछ ही ज्यादा मसहुर होते हैं.
जितने भी bloggers होते हैं उन्हें SEO के बारे में और उससे जुड़े terms के बारे में भी पता होता है जैसे की backlinks, Google page rank इत्यादि जिसका इस्तेमाल कर वो अपनी website को search engines पर अच्छी rank पर ला सकते हैं जिससे उनके site पर traffic होगा और वो इसके जरिये अच्छा income कर सकेंगें. seo से जुडी सारे ही terms site को अच्छा rank दिलाने के लिए बहुत ही important है और उनमे से एक है Domain Authority जिसके बारे में बहुत कम लोगों को पता है, और ये भी blog के लिए बहुत जरुरी है अगर हम इसके ऊपर ध्यान नहीं देंगे तो Google के page पर आपके site के position पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ेगा.
तो चलिए आज मै आपको इसी के बारे में बताउंगी की Domain Authority क्या है? अपने blog का DA कैसे check करें? और अपने DA को कैसे improve करें?

Domain Authority क्या है – What is Domain Authority in SEO

Domain Authority kya hai
Domain Authority जिसको हम short term में DA केहते हैं, ये एक metric है जिसे Moz company ने बनाया है जिसका उद्देश्य है websites को 1-100 के अन्दर rating देना. DA, SEO का एक बहुत ही महत्वपूर्ण factor है जो website को ये दर्शाता है की वो search engine पे कितने अच्छे rank पर है. तो आपके website का Domain Authority जितना ज्यादा होगा उतना ही ज्यादा उसका ranking search engine में होगा और उतना ही ज्यादा strong traffic आपके site को मिलेगा.
अलग अलग website का DA भी अलग होता है. जिसने अपना blog नया नया शुरू किया है उस blog का DA कुछ तिन महीने बाद 10-20 के अन्दर रहता है. आपका domain जितना पुराना होता जायेगा उसका DA बढ़ते जायेगा. जितना ज्यादा DA होगा उतना ही ज्यादा organic traffic में मुनाफा मिलेगा. पर यहाँ सवाल ये उठता है की हम अपने blog के DA का पता कैसे लगा सकते हैं. तो चलिए इसके बारे में भी जान लेते हैं.

Domain Authority को Check कैसे करें?

बहुत सारे tools internet पर मौजूद है जिसका इस्तेमाल कर आप अपने website का domain authority कितना है ये जान सकते हैं. लेकिन हम सबसे बेहतर domain authority checker tool का इस्तेमाल करेंगे और Moz Open Site Explorer एक बहुत ही बढ़िया tool है जहाँ आप आपके site का domain address जब लिख लेंगे तो ये tool आपका latest DA score आपको दिखा देगा.
ये किसीको भी नहीं पता की एक website का domain authority का rank किस base पर दिया जाता है. ये सिर्फ Moz कंपनी को ही पता है जिसने इसका अविष्कार किया है. Moz’s system एक particular domain को ranking देने के लिए 40 अलग अलग factors को check करते हैं जैसे की आपका domain कितना पुराना है, आपके site में कितने links जुड़े हुए हैं, कितने high DA वाली websites से आपको link मिल रहे हैं इत्यादि. ऐसे ही करके 40 factors को Moz team rank देने के लिए check करता है.
एक website का DA कभी भी constant नहीं रहता या तो वो बढ़ता है या फिर घटता है. अगर आपके website का DA बढ़ रहा है तो ये आपके लिए काफी फायेदेमंद साबित होगा अगर DA घट रहा है तो ये बहुत ही ख़राब संकेत है. इसके लिए आपको अपने blog की DA को बढ़ाने की ज्यादा जरुरत है. पर कैसे? चलिए जानते हैं,

Blog के Domain Authority को कैसे improve करें?

अपने blog के domain authority को बढ़ाना का सीधा मतलब है की search engine पर high rank पाने के आसार(chances) को बढ़ाना. domain authority को बढ़ने के लिए सबसे ज्यादा फायेदेमंद साबित होता है वो links जो आपके site पर उस site से आ रही होती है जिसका DA rank अच्छा और ज्यादा होता है. इसलिए एक ब्लॉगर को ज्यादा ध्यान link building पर देनी चाहिए. निचे दिए गए points को follow कर अपने blog के DA को improve कर सकते है.
1) Link building करें- link building करना DA बढ़ने के पीछे का बहुत बड़ा कारण है. जितना हो सके उतना backlinks पाने की कोशिश करिए और एक चीज का ध्यान रखते हुए करें की वो सभी links आपको quality sites से प्राप्त हो. अगर आपको वो links low-quality websites से मिलेंगे तो आपके DA को बढ़ने में बहुत वक़्त लग जायेगा.
2) Interlinking मजबूत करें- interlinking का मतलब होता है अपने ही blog के page को दुसरे page के साथ link करना. जन भी आप अपने blog पर नया article post करेंगे याद रहे की हर post आपके blog के 2-3 दुसरे पुराने posts जिसका Google search engine के page पर high rank हो गया है उसके साथ link बनाकर रहे. ऐसा करने से link juice पुराने post से नए post में pass होते हैं और उस post पर ज्यादा visitors आने के chances बढ़ जाते हैं. जिससे DA बढ़ने के भी chances बढ़ जाते हैं.
3) Comment करें- अपने blog के niche से related दुसरे blog पे या forum पर comment करें, ऐसा करने से हमें do-follow link मिलते हैं जिससे की दुसरे blog और forum पे आने वाले readers आपके blog में भी आना शुरू कर देते हैं. इससे धीरे धीरे आपके blog की popularity बढ़ेगी और उसके साथ ही DA भी अपने आप बढ़ने लगेगी.
4) Website के खुलने की प्रक्रिया को बढाइये- आपकी website browser में जितना जल्दी खुलेगा उतने ही जयादा visitors आपके site में आना पसंद करेंगे. Google के search engine page पर भी वोही website को high ranking मिलती है जिसके site को load होने में ज्यादा समय नहीं लगता. इसलिए एक ब्लॉगर को अपने site के load time पर ध्यान देना बहुत ही जरुरी है.
5) Social media marketing- social media हमारे site के content को rank करने के लिए बहुत ही फायेदेमंद होता है. Social media से हमें referral traffic मिलता है और site की brand value को भी बढ़ाता है. ये सबसे अच्छा तरीका है अपने website को Google के page पर rank करने का और अपने knowledge को ज्यादा से ज्यादा audience तक पहुचाने का. जितने ज्यादा लोग आपके writing को पसंद करेंगे उतने ही ज्यादा आपके fan followers बढ़ेंगे. और इसका सीधा असर आपके domain authority पर भी पड़ेगा.
मुझे आशा है के आपको समझ में आ गया होगा के What is Domain Authority in Hindi (Domain Authority kya hai). मैंने यहाँ जितने भी points के बारे में बताया है वो सभी चीज एक quality blog में होते हैं, आपके blog का quality जितना अच्छा होगा उसका domain authority भी उतना ही बेहतर होगा. अगर आपने अब तक अपने DA पर अभी तक ध्यान नहीं दिया है तो अब ध्यान देना शुरू कर दीजिये. ऊपर बताये गए points को follow करीए और फिर देखिये आपको इससे कितना फायेदा होता है.
Previous
Next Post »
Thanks for your comment